img-book
ISBN: 9789386474551
Categories: ,

ख़तनामा (Khatnama)

by: Afreen Khan, Anshul Pandey ‘Aaftaab’, Antara Adhikari, Ashwin Pandey, Charu Sharma “Alankrit”, Himanshu Singh, Jatin Medhiya, Khizar Syed, Kumar Mohit, Nikki Mahar, Ravindra Singh, Sahiba Khan, Sameer Sharma, Sanjana Jha, Shalini Bhati, Shantanu, Siya Kumawat, Sumit Deshmukh, Sunil Kumar Gurjar ‘Rahgeer’, Umesh Bharatpuriya, Dr. Vasundhara Bhati,

ख़तनामा एक हिन्दी कविता संग्रह है जिसमें फ़ेबल डायरीज़ टीम के 21 कवि एवं कवयित्रियों की 34 कवितायें संकलित हैं।

इन कविताओं कि विशेष बात ये है कि ये सभी ख़तों के रूप में लिखी गयी हैं और ये उन भावों को व्यक्त करती हैं जो कभी न कभी हमें छू कर गुज़रते हैं।

169.00

Quantity:
Meet the Author
avatar-author
आफ़रीन खान कानपुर से हैं और दिल्ली में पढ़ाई कर रही हैं।
Books of Afreen Khan
Meet the Author
avatar-author
जब उम्र धीरे धीरे बीसवीं की तरफ बढ़ रही थी तो ज़िंदगी में भी टी-20 की तरह उथल पुथल हो गयी और जब इन सब में जब पारी ख़राब जा रही हो तो सारी निराशा पवेलियन में पन्नों पर निकलने लगी, मैंने लिखने की शुरुआत भी कुछ इसी दौर में की शायद ग्यारवीं में था, थोडा बहोत इसी निराशा कभी कभी लिखना शुरू किया इंजीनियर भी बन गया फिर संपर्क में आया फे्बल डायरीज़ के और लिखना शौक बनता गया, इसी शौक को अब लोगों में बाँट लेता हूँ और कुछ तारीफ, कुछ आलोचना बटोर लेता हूँ, ज्यादातर शृंगार लिखता हूँ पर कभी कभी सामाजिक वेदनाएं भी व्यक्त कर देता हूँ, नाम है अंशुल पाण्डेय ‘आफताब’, कानपुर, उत्तर प्रदेश से।
Books of Anshul Pandey ‘Aaftaab’
Meet the Author
avatar-author
अन्तरा अधिकारी दिल्ली से है लेकिन अभी गुवाहाटी में समाज शास्त्र की पढाई कर रही है। इन्हे कविता लिखने की प्रेरणा अपनी माता जी से मिली। करीब 1 वर्ष से कविताएँ लिख रही है, इन्हे उर्दू और हिंदी लिखना और पढ़ना पसंद है।
Books of Antara Adhikari
Meet the Author
avatar-author
कवियित्री का पूरा नाम आश्विन पांडेय है। वह उत्तर प्रदेश के बलिया नामक जिले की रहने वाली है। बिरला प्रौद्योगिकी संस्थान मेसरा से स्नातकोत्तर करने के बाद बेंगलुरु की एक प्रतिष्ठित कंपनी में कारर्यत है। लेखन के अलावा इनकी रूचि पर्यटन एवं किताबे पढ़ने में है।
Books of Ashwin Pandey
Meet the Author
avatar-author
मेरा नाम चारु शर्मा है और मैं ‘अलंकृत’ उपनाम से अपनी रचनाएँ लिखती हूँ। मेरा जन्म दिल्ली में हुआ मेरी प्राथमिक शिक्षा मैंने यही पूरी की। मैंने बी.कॉम किया और अब लॉ की पढ़ाई कर रही हूँ। लोगों को विरासत में ज़ायदाद मिलती है मुझे कविताएँ मिली हैं। बचपन से ही कविताएँ लिखती आई हूँ। मुझे ज़िंदग़ी को गहराई से देखना अच्छा लगता है मैं मानती हूँ कि मेरी सबसे बड़ी लड़ाई खुद से ही है और दो वाक्यों में अगर अपनी बात कहूँ तो

“भूल जाओगे पलभर में ये कारवाँ-ए-ज़िंदग़ी है,

यहाँ रिश्तों का एहसास नहीं बस एहसासों के रिश्ते हैं”

Books of Charu Sharma “Alankrit”
Meet the Author
avatar-author
मेरा नाम हिमांशु सिंह है। मेरी उम्र 20 साल है। मैं बनारस का रहने वाला हूँ। 10 साल की उम्र में मम्मी-पापा के साथ रायपुर, छत्तीसगढ़ में रहने लगा था। पिछले 2 साल से दिल्ली में रह रहा हूँ। मैं दिल्ली विश्वविद्यालय से बी. कॉम कर रहा हूँ।
Books of Himanshu Singh
Meet the Author
avatar-author
जतिन मेधिया फरीदाबाद से हैं। इन्होने करीब 6 वर्ष पहले लिखना शुरू किया। इन्हे सफ़र करना और लोगो से बात करना पसंद है। ये 19 वर्ष के हैं और अपनी एक अधूरी कहानी को पूरा करने की कोशिश में हैं।
Books of Jatin Medhiya
Meet the Author
avatar-author
कौन हूँ मैं? हमारा तआरुफ़ हर मौके के हिसाब से अलग बंधता जाता है। यहाँ के लिए। मैं ख़िज़र। नाम मे दो नुक्ते है और हर मौजूँ पर अपना नुक़्ता नज़र। 25 का हूँ। किताबी कीड़ा। जयपुर मोहब्बत और घर दोनों। गुडगाँव दफ़्तर। कॉर्पोरेट नौकर। नाकामयाब कोडर। करता बहुत कुछ हूँ पर आता कुछ भी नही। लिखना बचपन से ही आदत और ज़रूरत में शामिल है। इंग्लिश, हिंदी और उर्दू तीनों भाषाओं में पढ़ना और लिखना आता-सा है।
Books of Khizar Syed
Meet the Author
avatar-author
1996 था वो साल जब मेरे दादाजी ने मेरे हृदय में कविता का बीज अंकुरित किया था। वो पहली कविता थी जिसके बाद लगातार हिंदी साहित्य में मेरी रूचि बढ़ती ही गयी। इसकी वजह शायद घर में हिंदी किताबों का बहुतायत में होना भी हो सकती है, या मेरे बचपन का मेरे दादाजी की छत्रछाया में पलना या फिर बिहार जैसे साहित्य के धनी राज्य में मेरा जन्म। खैर वजह चाहे जो भी रही हो, 2006 (जब मैं नौंवी कक्षा में पढता था) से लिखना शुरू किया था। तब बस जुगाड़ ही निहित था रचनाओं में, कभी शब्दों का तो कभी सोच का। पर जैसे जैसे उम्र बढ़ती गयी, जीवन में अनुभवों का हिस्सा बढ़ता गया, कुछ उद्देश्यपूर्ण रचनाएँ करने लगा। प्रारम्भिक दौर में केवल कविताएँ लिखता था, फिर गीत लिखे, फिर छोटी छोटी शायरियां और अब कुछ लघु कथाएं भी लिख चूका हूँ। 2014 में जयपुर से यांत्रिकी अभियांत्रिकी (मैंकेनिकल इंजीनियरिंग) में स्नातक डिग्री लेने के बाद इनफ़ोसिस (मैंसूरु) में कार्यरत हूँ। लगभग ३ साल हो चुके हैं और इस दरमियाँ कई अच्छे मित्रों का सहयोग मिला जिसके बदौलत मेरे लिखे २ गीत और एक लघु चलचित्र (शार्ट मूवी) यूट्यूब पर प्रसारित हुए। “हिंदी साहित्य और हिंदी व्याकरण का रिश्ता”- ये वो ख़ास बात है जो कुछ भी लिखते वक़्त मेरे जेहन में रहती है। प्रकृति प्रेम और वीर रस के काव्यों ने मुझे सदैव ही मोहित किया है, और यही कोशिश रहती है कि इन शैलियों का उपयोग कर सकूँ।   अभी जीवन का एक चौथाई पड़ाव पूरा किया है, बाकी तीन अभी बाकी हैं, अभी तो उजाले की किरणे आयी हैं; अभी तो, सारी रात बाकी है; सीखना मनुष्य गुण है, अभी बस लिख रहा हूँ, पर सीखना सदैव जारी है;   -कुमार मोहित
Books of Kumar Mohit
Meet the Author
avatar-author
परिचय के तौर पर अभी कुछ ऐसा किया नहीं जो ख़ुद के दम पर कमाया हो. . . नाम परिजनों द्वारा मिला तो उपनाम पैतृक परंपरा के अनुसार जोड़ा गया। विद्यालयी और महाविद्यालयी प्रागंण में माँ सरस्वती की अनुकम्पा से मुझे साहित्य में स्नातक और स्नातकोत्तर की डिग्री पाने का सौभाग्य मिला। दिल्ली में पली-बढ़ी हूँ परन्तु जड़ें उत्तराखंड के कुमाऊँ क्षेत्र से जुडी हैं। व्यवसाय जगत में मेरे कार्य-क्षेत्र को ‘शिक्षण’ के नाम से जाना जाता है। लेखन से जुड़ाव कब से रहा यह स्पष्ट तो नहीं याद पर धुँधली यादें शायद विद्यालयी दिनों की याद दिलाती हैं जब कॉपियों के पिछले पन्नों पर मनोभाव उकेरा करती थी। मैं ताउम्र बस यूँ ही पढ़ना, सीखना और कुछ सार्थक सा लिख लेना चाहती हूँ। तमन्ना बस इतनी है -

“मेरी लेखनी मेरी पहचान बने

मेरे शब्द मेरी अभिव्यक्ति हों

जीवन तेरे विद्यालय में

मैं आजीवन साहित्यार्थी बनी रहूँ”

Books of Nikki Mahar
Meet the Author
avatar-author
कवि का पूरा नाम रविन्द्र सिंह है, ये अपनी रचनाऐं ‘रविन’ नाम से प्रकाशित करते हैं। कवि उत्तर प्रदेश के अलीगढ़ नामक जिले में रहते हैं। कवि के पिता का नाम श्री ब्रह्म सिंह और माता का नाम श्रीमती कौशल देवी है। पिता पुलिस विभाग में इंस्पेक्टर के पद पर आसीन हैं तथा माता गृहणी हैं।आगरा के आनंद इंजीनियरिंग कालेज से सूचना प्रौद्योगिकी में ग्रेजुऐशन करने के बाद सॉफ्टवेयर इंजीनियर के पद पर एक प्रतिष्ठित कम्पनी में कार्यरत हैं। कवि सामाजिक मुद्दों पर अपने विचार खुल कर प्रस्तुत करते हैं और इनकी अधिकतम रचनाऐं इसी पर आधारित भी होती हैं। कवि अपनी ग़ज़लों, नज़्मों, गीतों, कविताओं, लघु कहानियों इत्यादि को हिंदवी लहजे में कहते व लिखते हैं। दी गई कविता ‘सिपाही’ कवि की उच्चतम रचनाओं में से एक है। आशा है आपको यह कविता अवश्य पसंद आऐगी।
Books of Ravindra Singh
Meet the Author
avatar-author
साहिबा, निहालगंज शाहाबाद, ज़िला हरदोई से हैं। इनके पिता का नाम श्री शाकिर अली खान। ये 25 वर्ष की हैं और इन्होने बी .ए., बी.एड. में पढ़ाई की है। ये व्यवसाय से सहायक अध्यापिका हैं और अंग्रेज़ी व उर्दू साहित्य में रूचि रखती हैं।
Books of Sahiba Khan
Meet the Author
avatar-author
मेरा नाम समीर है, मैं दिल्ली से हूँ पर अभी पुणे रहता हूँ और मैं ‘अश्क़’  उपनाम से कविताएं कहता हूँ। मुझे कविताएं शायद विरासत में ही मिली हैं, क्योंकि मेरे नानाजी श्री मूलचंद शर्मा ‘अलंकृत’ कवि थे। अपनी याद में कभी उनसे रूबरू नहीं हुआ पर उनकी कविताओं से खुद को काफ़ी जुड़ा पाता हूँ। साहित्य से भी लगाव स्कूल के वक़्त से है। अक्सर सिलेबस में पूरे साल के लिए मिलने वाली हिंदी और अंग्रेजी की किताबें दो से तीन दिन में खत्म कर दिया करता था क्योंकि पढ़ना बहुत पसंद था। उसके अलावा घर में जो भी मैंगज़ीन या किताबें आती थी उन्हें में भी ख़त्म करके ही चैन मिलता। इसी के ज़रिये प्रेमचंद, निराला, महादेवी वर्मा, सुभद्रा कुमारी चौहान से नाता जुड़ा, इंटरनेट हाथ में आते ही पहले प्रेमचंद, फिर ग़ालिब, और एक एक करके इन्ही के साथ वक़्त काटने लगा, पढ़ते पढ़ते न जाने कब लिखने की आदत हुई पता नहीं चला। अपनी पहली कविता आज से नौ वर्ष पहले लिखी, पर कविताएं सुनाना अभी बीते वर्ष ही शुरू किया। और जब अपने ही जैसे कुछ और सीखने वाले लोगों से नाता जुड़ा तो ‘फ़ेबल डायरीज़’ की नींव पड़ी जो कि अब एक समूह है जहाँ हम आपस में एक साथ कवितायेँ लिखते हैं और उन्हें और बेहतर बनाने की कोशिश करते हैं। बीते वर्ष में काफी कुछ सीखने और अपनी कविताओं में उसे उतारने की कोशिश की। ऐसी ही एक कोशिश ये कुछ कविताएं हैं जो कि ख़त के रूप में हैं। आशा है आपको पसंद आएँगे।
Books of Sameer Sharma
Meet the Author
avatar-author
मैं “ख़्वाब_संजना” हिन्दू महाविद्यालय की दर्शनशास्त्र की छात्रा हूँ। अभी स्नातकोत्तर की पढ़ाई जारी है। लिखना कभी शौक होता है कभी मन को बहलाने को लिखे जाने वाली चीज़, मेरे लिए लिखना जुनून है, क्योंकि लेख़क एक बिम्ब है समाज का और सबसे ज़्यादा हिस्सा मेरे मुताबिक़ उसका है समाज़ की बढ़ोतरी में, तो प्रक्रिया जारी है इसी राह में।
Books of Sanjana Jha
Meet the Author
avatar-author
शालिनी भाटी फरीदाबाद के पास, हरियाणा मे स्थित, कौराली, गाँव से हैं। लेकिन अभी मुंबई मे रहतीं हैं अपने माता-पिता के साथ, इनकी पोस्ट ग्रेजुएशन पूरी हो गयी है। इन्हे पुस्तक पढ़ने, नृत्य करने और चित्रकारी में रूचि है। इनका विश्वास है की लिखना अंतरात्मा को सुकून देता है और दूसरों के जो भाव अभिव्यक्त नहीं हो पाते उन्हें पन्नो पर अंकित करता है। लिखने की शुरुआत ग्रेजुएशन के पहले वर्ष से की जब घर से पहली बार दूर रहना पड़ा था। कहानियां पढ़ना बहुत पसंद है, और उपन्यास बड़े चाव से पढ़ती हैहैं। हिंदी मे लिखने और पढ़ने की रूचि पिछले वर्ष से हुई है।राहत इन्दोरी साहब की बड़ी फैन हैं। शालिनी खुशमिज़ाज़ व्यक्ति होने के साथ-साथ जिंदादिल भी है और नई-नई चुनौतियों के लिए तैयार रहती है। इनका लिखने का अंदाज़ सरल और भावुक है।
Books of Shalini Bhati
Meet the Author
avatar-author
मैं शान्तनु हूँ, दिल्ली में फिजिक्स की पढ़ाई कर रहा हूँ, साथ ही साथ लिखने का शौक पाल रखा है। कभी कभार रैप भी लिखता हूँ, और गाता भी हूँ। ज़िन्दगी का एक ही मकसद है, ब्रह्माण्ड के रहस्यों को खोजना कलम, कागज़ और कल्पना से।
Books of Shantanu
Meet the Author
avatar-author
मेरा नाम सिया कुमावत। उम्र 25 साल, सीकर (राजस्थान) की निवासी। राजस्थान जो अपनी कला, संस्कृति, शौर्यपूर्ण इतिहास के लिए भारत में प्रसिद्ध है। मेरी शैक्षिक योग्यता एम एस सी (रसायन) बी-एड है। मुझें नये लोगों से मिलना, बातें करना पसंद है। हिंदी कविताएँ, कहानियां, लेख, गजल, शायरी पढने में रुचि बचपन से थी। धीरे- धीरे ना जाने कब ये रुचि, गहन रुचि में बदल गयी पता ही नही चला। शब्दों, भावनाओं, घटनाओं को कविता मे ढालना अच्छा लगता है। मेरा मानना है कि हम कविता के माध्यम से भावनाओं को कम शब्दों मे भी अच्छे से व्यक्त कर सकते हैं, और ये सीधे पढने वाले के दिल को छूती है।
Books of Siya Kumawat
Meet the Author
avatar-author

कवि /लेखक / गीतकार

सुमित देशमुख, यूँ तो इलेक्ट्रिकल इंजीनियर है पर पुणे में एक शैक्षिक संस्थान में कार्यरत है। ये विभिन्न कलाओ की अभिव्यक्ति में रूचि रखते है। ये अपनी कला को गीतों, कविताओं और चित्रों के माध्यम से व्यक्त करते है। इन्हे उर्दू कविताएँ पसंद है और अक्सर पुणे में कवि सम्मेलन की शोभा बढ़ाते है।
Books of Sumit Deshmukh
Meet the Author
avatar-author
सुनील कुमार गुर्जर 24 वर्षीय लेखक हैं और संगीत से भी जुड़े हुए हैं। सुनील जयपुर, राजस्थान से हैं। इंजीनियरिंग करने के एक वर्ष तक इन्होने नौकरी की पर जल्दी ही सब छोड़ लेखन और संगीत से जुड़ गए। सुनील गाने, ग़ज़ल और कविताएँ लिखते हैं और हर जगह घूमकर उन्हें सुनाते भी हैं।
Books of Sunil Kumar Gurjar ‘Rahgeer’
Meet the Author
avatar-author
उमेश भरतपुर, राजस्थान से हैं और अभी गुरुग्राम, हरियाणा में रहते हैं। ये छ: वर्ष से ग़ज़ल और कविताएँ लिख रहे हैं।
Books of Umesh Bharatpuriya
Meet the Author
avatar-author
मेरा नाम डॉ. वसुन्धरा भाटी है! मैं पेशे से दन्त शल्य चिकित्सक (डेन्टल सर्जन) हूँ। मेरा जन्म हरियाणा प्रान्त के फरीदाबाद जिले के छाँयसा गाँव में 12 अगस्त 1993 को हुआ। मेरी एक बडी बहिन और एक छोटा भाई है। मेरे पिता भारतीय वायुसेना में होने के कारण हम सभी भाई बहनों की पढाई केन्द्रीय विद्यालय से हुई। बी डी एस राजीव गांधी स्वास्थ्य विज्ञान विश्वविद्यालय बेंगलूरू के अधीन डॉक्टर श्यामला रेड्डी डेन्टल कालेज बेंगलूरू से संपन्न हुई है। कविता लिखने का शौक बहुत पुराना नहीं है। बस कुछ 6-7 महीने से ही हुआ है। मुझे ये प्रेरणा मेरी दादी से मिली है।
Books of Dr. Vasundhara Bhati
About This Book
Overview
  • Paperback: 152 pages
  • Publisher: MyBooks Publication (23 November 2017)
  • ISBN-10: 9386474557
  • ISBN-13: 978-9386474551
  • Package Dimensions: 22 x 14 x 1 cm

“ख़तनामा (Khatnama)”

There are no reviews yet.