• Sale!
    img-book

    हसीब सोज़ बदायूँ जैसे तहज़ीबी  शहर के जहीन शायर है, मैने उनकी गजलें मुशायरों में भी सुनी हैं और उनकी किताब में भी पड़ी है, वह चलती-फिरती जिंदगी के शायर हैं और इस जिंदगी को वह चलती फिरती जुबान में बयान भी करते है, हसीब सोज की गजलों में जो आसमान है वह उनकी आँखों का देखा हुआ है, जो जमीन है वह उनके कदमों से नापी हुई है और जो मौसम है वह अपने वजूद में जिया हुआ हैइन गजलों का मर्कजी किरदार अकलियती (अल्पसंख्यक) और अक्सरियती (बहुसंख्यक) तकसीम से बड़ी हद तक पाक है, वह किरदार न हिन्दू है न मुसलमान है सिर्फ और सिर्फ इन्सान है और उनकी यही इंसानियत उनका हुस्न है

  • img-book

    I started writing this book in my late school days of 2012. I continued to pen down my experiences of struggle and subsequent wisdom that I gained while staying in Delhi, but the major chunk of it is a part and parcel of my on going depression disorder, a rhythmic journey of surviving with it throughout my graduation days and now finally making it to being an official poet. Towards the end, after tasting the starter of my matter-of-fact writing, you’ll find next two chapters in main course, comprising of short love stories, divided into poems, depicting certain events taking place between fictitious characters. Don’t forget to share your dessert like feedback on social media. Since this book was not created with the aim of being published initially, I’ve left most of the meaning hidden or subjective to the sense of understanding of reader and I think this is what makes it different for all you and very special like a dream of the heart for me.

  • img-book

    ABOUT THE BOOK This book “Political Science” for Class XII is based on the latest revised syllabus prescribed by CBSE. It has been designed to equip senior secondary students with the necessary skills to enable them to attempt the Cartoon based and Map based questions effectively. This book will help the students to get an extra edge and will enhance their confidence to successfully take the Board examination in Political Science and score maximum marks. It will help the students to understand the cartoons and attempt it in exams properly. All cartoons are explained first and then relevant / expected questions are given for students’ practice. This book provides a platform where the solution to all cartoons is available.

  • img-book

    विश्वास सोहम चाहता है कि समाज के प्रत्येक वर्ग के साथ ‘स्वयं के प्रबंधन’ एवं मैडीटेशन के साथ बांटा जायें चाहे वह काॅरपोरेट जगत हो अथवा सर्वहारा मजदूर वर्ग हो, अथवा समाज में नियमोें को पालन करवाने की जिम्मेवारी लिये पुलिस वर्ग हो।
    सोहम की भावी रणनीति, मैंडीटेशन के जरिये भीतर की इस शांत  क्रांति को जन-जन तक पहुंचाने का है ताकि प्रत्येक व्यक्ति जिस भी परिस्थिति में है खुशहाल महसूस कर सके।
    बिना मां-बाप व अभावग्रस्त बच्चों के साथ समाज में एक छोटी सी ज्योति जलाए रखने के पावन संकल्प के साथ सोहम ने अपनी यात्रा के दूसरे पड़ाव में समाज में इस प्रकार के प्रयासों को बनाये रखने के महत्व को भी सांझा किया है। सोलन के ग्राम घट्टी में  सोहम  विश्वास घर एक छोटा सा ज्वलंत उदाहरण है। ‘‘सोहम’’ की सोच में समाजसेवा की एक अलख को प्रज्जवलित करना है कि प्रत्येक व्यक्ति अपने-आसपास समाज के अभावग्रस्त वर्ग की देखरेख कर सके। सोहम का मकसद है समाज को इस योग्य बनाना कि वह ‘स्वयं प्रबंधन’ के जरिये विकराल समस्याओं के कारणों पर विचार कर सके।
    सोहम के इस प्रयास में आप भी शामिल हों

  • img-book

    It was an ordinary working day for Kevin Foo, a Chinese male of around sixty years of age. He was close to retirement, but he was not looking forward to it. He had worked at the Criminal Investigation Department in Singapore for more the thirty years. He is facing a new type of crime with international complications.

    The book is about the challenges faced to solve the mystery.

  • img-book

    माय बुक्स प्रकाशन से प्रकाशित पुस्तक ‘एक ख़्वाब’ 68 कविताओं का संग्रह है. पुस्तक में प्रेम और जीवन ही नहीं समाज और राजनीति से प्रेरित भी कुछ रचनायें हैं. यह कवितायें कवि की सहज मन की अभिव्यक्ति हैं. कहीं-कहीं यह किताब एक टूटते मन को हिम्मत देने का काम भी करती है तो कहीं-कहीं जीवन दर्शन को एक नया आयाम रचती यह कवितायें पाठकों के दिल को छू जाती हैं. कुछ कविताओं में कवि ने कुछ दिलचस्प मुहाबरों का प्रयोग भी किया है जो कविता को एक अलग तरह की गहराई देती है. कहीं-कहीं हास्य और व्यंग्य के भाव भी मुखर होते हैं तो कहीं आपकी पलकें भी गीली हो जाती हैं. यह किताब पढ़ने वालों के लिए एक ट्रीट की तरह है. कवि ने यह पुस्तक अपनी सभी पूर्व प्रेमिकाओं के अलावा अपनी पत्नी शालिनी ‘एक ख़्वाब’ को समर्पित किया है.

  • Sale!
    img-book

    सप्तक’, अवनीश महाजन ‘मधुर’ का तृतीय काव्य संग्रह है । यह आध्यात्म के क्षेत्र में उनका प्रथम प्रयास है या यूँ कहें कि आध्यात्मिक काव्य क्षेत्र में पदार्पण। शुरुआत गीता से हुई। गीता के कुछ अध्याय चुने और उन्हें सरलतम हिन्दी कविताओं में ढालने का प्रयत्न किया। फिर कुछ और आध्यात्मिक विषयों का चयन कर, ऋषियों और महात्माओं के शोध का काव्यानुवाद करने की चेष्ठा ।इस प्रयोग में मैं कहाँ तक सफल हो पाया, यह तो पाठक गण ही तय कर पाएंगे

    फिलहाल, यह प्रयास आप सबको समर्पित

    saptak by: Avneesh Mahajan 249.00 200.00
  • img-book

    प्यार के अलग-अलग रंगों में रंगी हुई कविताएँ जैसे कि – खोने के, पाने के, इंतज़ार के, तसब्बुर के, इत्यादि। कुछ कविताएँ थोड़ा हट के भी हैं। कुछ समाज के माहौल पर तो कुछ महिलाओं के बारे में भी हैं।

    Dil ki sada by: Sadanand Bag 159.00
  • img-book
  • img-book
  • Sale!
    img-book
  • Sale!
    img-book
  • img-book
  • img-book
  • img-book